30+ आप की कमी शायरी हिंदी में | Aap ki kami Hindi Shayari

आप की कमी शायरी :- दोस्तों कैसे हो आप सब, आशा करता हु की आप सब अच्छे ही होंगे दोस्तों इस पोस्ट में हम आपको आप  की कमी शायरी देने वाले है । दोस्तों क्या आप भी उनको नहीं भुला पा रहे हो जिसने आप प्यार करते हो, और वो आपसे नाराज़ हुए बैठे है, तो इसी लिए हमने आज की यह पोस्ट आप ही के लिए बनाई है।
ताकी आपका प्यार आपके वापस आ जाये। इस पोस्ट में हमने Aap Ki Kami Shayari लिखी है जिसमे आपको ऐसी शायरियां मिलेगी जो उनको पसंद भी आएगी और आपके ढूंढ़ने से भी नहीं मिलेगी
हमारी वेबसाइट की ख़ास बात यही है की इसमें जितनी भी शायरियां आपको मिलेगी वो पहले से अपलोड की गई शायरियों से बिलकुल अलग होगी और बहोत काम वेब्सीटेस पे ही मिल पाएगी।
इस पोस्ट में लिखी गई हिंदी शायरी इन सभी वर्ग से जुडी है।
  • कुछ कमी सी है शायरी | प्यार में कमी शायरी | तेरी कमी शायरी | तुम्हारी कमी शायरी | अपनी कमी पर शायरी | आपकी कमी शायरी | मेरी कमी शायरी | कमी महसूस शायरी

|| आप की कमी शायरी ||

सुनो ना…!
आ जाओ इन बारिश की बूंदो में समां कर
ये दिल नहीं लगता तुम्हारे बिना..!!

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


देगा करके मुस्कुराना ही है | तो मत कर यह फ़िज़ूल के वादे,
तू थोड़ी से आस देकर | मेरी पूरी ज़िन्दगी नीलम कर देगा ।।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


माना आपको प्यार की कदर नहीं थी,
दिल तो रख लिया होता,
इतनी जल्दी भूल गए उस प्यार को,
अरे थोड़ा सब्र तो कर लिया होता।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


उसकी जुदाई को लफ़्ज़ों में कैसे बयां करे !
वो रहता दिल में, धड़कता दर्द में, और बेहटा अश्क़ में है।
कुछ कमी सी है शायरी

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


कुछ तो बात थी उनकी बातो में,
वरना बात न होती,
अगर मन कर दिया होता उससे मिलने को,
तो एहसास-ए-तकलीफ ना होती।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


कैसे सुनाऊ में दर्द ए दास्ताँ दिल की,
किसी ने मैसेज करने ही मना किया है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


सब कुछ मिला था मुझे मेरी पसंद का,
मुरशद…..! मगर वो हक़ीक़त नहीं ख्वाब था मेरा।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


हम दोनों अपनी ज़िद पर है,
वो मुझे याद करना नहीं चाहती,
और में उसे भुला नहीं पा रहा।
प्यार में कमी शायरी

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


आज सपने में तुम्हे देखा,
हमसे ही बहुत खफा देखा,
अब हमसे जो नज़रे चुराने लगे हो तुम,
इस कारण तुमको, अब खुद से ही जुदा होते देखा।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


इस नादान ज़िन्दगी में,
एक अनजान ने बहुत कुछ सीखा दिया,
चोट लगने पर रोते थे,
अब जख्मो में भी मुस्कुरा रहे है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


जितनी बार आइना देखते है,
उतनी बार तुम याद कर टूटे है।
तेरी कमी शायरी

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


आप की कमी शायरी हिंदी में

गर्मियों में बरसात हो सकती है,
मगर बिना दर्द के मोहब्बत कभी नहीं।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


किसी से दूर होने का एहसास बताता है,
तुम उससे कितना करीब हो।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


आज कल परछाइयों से पूछता हु,
खुद का पता,
तेरे इश्क़ में कही खो गया हूँ।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


तुम अब भी मुझसे नाराज़ हो क्या,
जैसे कल थी वैसे ही आज हो क्या,
तुम अब भी मुझसे नाराज़ हो क्या…!
अपनी कमी पर शायरी

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


वो मेरा होगा तो कभी न कभी मिल ही जायगा,
और अगर न मिला तो वो मेरा कभी था ही नहीं।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


आँखे कहती है की रुक जा रे किसी पनाह पे,
कब तक ऐसे ही रोयेगा..!
ज़िद छोड़ दे राहे ताकने की उसकी,
देखना फिर चैन से सोयेगा।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


लोग कहते है इश्क़ से ज़िन्दगी बिखर सी जाती है,
पर हम कहते है इश्क़ से ज़िन्दगी निखार सी जाती है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


मैं तो टूटकर बिखरने वाला ही था,
तेरे इश्क़ ने ही तो निखारा है मुझे।
आपकी कमी शायरी

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


तलाशता रहा तेरी शख्सियत का वजूद तुझसे जुदा होने के बाद,
शायद कभी तन्हाइयो में मिल जाये तेरी मौजूदगी का एहसास।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


चेहरे पे हसी रखना मज़बूरी है मेरी,
वरना ज़िन्दगी तो हमसे भी नाराज़ है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


कमल की थी उसकी बाते,
दिल को बहुत भाती थी,
पता नहीं आज कहा चली गई है,
वो मुझको याद बड़ा आती है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


यूँ तो इंतजार रहता है हर पल मुझे तेरा,
पर तू आ पाए ये मुमकिन नहीं,
भुला दिया तूने मेरा सब कुछ,
पर में भी भुला दू यह तो मुमकिन नहीं।
मेरी कमी शायरी

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


तुमसे दूर होकर भी तुमको भूल नहीं पा रहा हूँ,
पता नहीं उसने ऐसा क्या जादू किया है,
हर वक़्त उसकी याद में खोया रहता हूँ।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


प्यार में कमी शायरी

वो हमें पसंद करे, इसकी चाहत किसको है,
उनका देखकर मुस्कुराना काम तो नहीं,
हां कभी दिल ए नादान यह सोच बैठता है,
उनकी लिखी शायरी की वजह हम तो नहीं।
कमी महसूस शायरी

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


कौन कहता है मुझसे वफ़ा कीजिये,
आइये दिल लगाइये, और तबाह कीजिये।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


बिना बोले तेरी हर एक बात समझ जाना,
हक़ीक़त में न सही पर तेरा यादों में आना,
बहाने ढूंढ ले चाहे जितने भी,
पर लौट के आना होगा तुझे मेरे पास ही,

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


दिल करता है पलट जाऊँ आसमान वालो की तरफ,
जमीं वालो का मिजाज मिलता नहीं मुझसे।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


तलाश उसकी है जिसके बाद,
और किसी की तलाश न रहें,
ज़रूरत उसकी है जिसके बाद कोई ज़रूरत न रहें।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


हमारी उल्फत को खफा समझ बैठे,
हमारी उल्फत को खफा समझ बैठे,
हमारी ख्वाहिश तो वफ़ा की थी,
वो तो किसी और से ही दिल लगा बैठे।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


एक फ़ायदा तो था तुमसे बात करने का,
मैं थोड़ी देर ही सही लेकिन दिल से मुस्कुरा देता था,

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅


यह भी पड़े :-

2 comments

Comments are closed.