किसी व्यक्ति की तारीफ में शायरी

किसी व्यक्ति की तारीफ में शायरी | प्रशंसा शायरी |

किसी व्यक्ति की तारीफ में शायरी | खूबसूरती की तारीफ शायरी २ लाइन | खूबसूरती की तारीफ शायरी इन हिंदी | महबूब की तारीफ शायरी | दोस्त की तारीफ शायरी | लड़कियों की तारीफ में पॉपुलर शायरी | किसी की प्रशंसा में शायरी | 

किसी व्यक्ति की तारीफ में शायरी

क्या बयां करू में शख्सियत उस शख्स की,
एक वफ़ा के सिवा उसमे खूबियां सारी थी ।।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

हम अपनी तारीफ उनके लफ़्ज़ों में ढूंढ़ते रह गए,
और वो आँखों ही आँखों में सब बयां कर गए ।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

तारीफ तो हर कोई करता है मेरी पर,
आपके मुँह से सुन्ना ज़्यादा अच्छा लगता है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

तस्वीर बना कर तेरी आसमान पर टांग कर आया हूँ,
और लोग पूछते है आज चाँद इतना बेदाग कैसे है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

खूबसूरती की तारीफ शायरी २ लाइन

हम तो उनकी तारीफ में लिखते रहे,
वो बस उन्हें पड़ते रहे, और सुनते रहे,
हाल ए दिल कह दिया अपना हमने,
और वो अंत में वाह वाह करते रहे।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

कितनी तारीफ करू तुम्हारी मुस्कान की,
तुम बन जाओ बहु मेरी मम्मी जान की।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

ना जाने तू किस कदर मेरे दिल पे छाई है,
मेने हर तारीफ में सिर्फ तेरी ही बाते सुनाई है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

मुझको मालूम नहीं हुस्न की तारीफ,
मेरी नज़रो मैं हसीं वो है जो तुम जैसा हो।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

किसी व्यक्ति की तारीफ में शायरी

यूँ ना निकला करो आज कल रात को,
चाँद छुप जायगा देख कर आप को।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

खूबसूरती की तारीफ शायरी इन हिंदी

क्या लिखू तेरी तारीफ़ ए सूरत में यार,
अल्फ़ाज़ काम पड़ जाते है, तेरी मासूमियत देखकर।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

लोग खूबसूरती के लिए और इम्प्रेशन के लिए क्या कुछ नहीं करते,
हम वो शख्सियत है जनाब..! जो,
जो अपनी सादगी से लोगो का दिल जीत लेते है,
और एक मुस्कराहट से आशिको का दिल चीर देते है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

जिस से तारीफ हो सके उसकी,
लगता ऐसे अल्फ़ाज़ बने ही नहीं।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

उनकी अदा अजी क्या कहे,
अल्फ़ाज़ खुद तारीफ बन कर, होंठो से निकल जाता है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

महबूब की तारीफ शायरी

इस सर्द मौसम में मेरे अल्फ़ाज़ भी जम गए है,
तुम तारीफ कर के देखो, शायद पिघल जाये।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

जो कागज पर लिख दूँ तारीफ़ तुम्हारी,
तो स्याही भी तुम्हारे हुस्न की गुलाम हो जाये।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

तारीफें लफ़्ज़ों की मोहताज नहीं होती,
यह तो बिन कुछ कहे, मुस्कान से भी बयां होती है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

ख्वाहिश यह नहीं की हर किसी से अपनी तारीफ सुनु,
बस इरादा यह है की अपनी बुराई किसी से ना सुनु।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

दोस्त की तारीफ शायरी

वो जन्नत से आई मेहमान सी लगती है,
वो सुबह की खूबसूरत अज़ान सी लगती है,
जब वो देखती है मुझे, तो खिल उठता हू मैं,
वो तो मुझे मेरी जान सी लगती है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

आपकी तारीफ के लायक बनना यही तो ख्वाहिश है मेरी,
क्युकी हमसे ज़्यादा खूबसूरत, तो आपकी तारीफों के बोल होते है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

तारीफ खुशबु से होती है,
इंसान कितना भी बड़ा हो, कदर उसके गुणों से होती है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

ज़रा बचके,
तारीफों के पुलों के निचे, अक्सर मतलब की नदियां बहती है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

लड़कियों की तारीफ में पॉपुलर शायरी

तारीफ़ तेरी नामुमकिन है चाँद अल्फ़ाज़ों में,
सोचता हूँ की तुझ पर एक किताब लिखूं।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

क़यामत देखी है मेने,
जब भी काली साड़ी पहनी है उसने।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

तुम्हारे देखने के अंदाज़ ने दीवाना कर दिया,
खुद शमा बन गए, और हमें परवाना कर दिया,
एक दिल ही था, इस गरीब के पास, वो भी आपको नज़राना कर दिया।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

हमारी आँख के आंसू भी हमारी तारीफ करते है,
कहते है वाह क्या इंसान है कभी गिरने ही नहीं देता।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

किसी की प्रशंसा में शायरी

मेरी तारीफ़ ही कुछ इस तरह की उसने,
खुद की ही तस्वीर को सो दफा देखा मेने।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

ज़ुल्फ़े मत बंधा करो तुम,
सुना है हवाएं नाराज़ हो जाती है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

ग़ज़ल या शायरी की चाह नहीं, प्यार भरे तेरे दो बोल ही काफी है,
मुझे क्या लेना है तारीफों से, तेरा इक नज़र भर देखना ही काफी है।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

सोचा की कुछ अपनी तारीफ में लिख दूँ,
फिर सोचा की तुम्हे ही अपनी तारीफ में लिख दूँ।

───── ⋆⋅☆⋅⋆ ─────

यह भी पड़े :-

3 comments

  1. bina bataye jise pata ho tu hai udaas,
    zindagi me wahi insan he sabse khaas..!

    kuch log bahut khaas hote hai,
    har waqt dil ke paas hote hai,
    kabhi wo nahi hote to ham bahut udaas hote hai,
    or jab wo hote hai to din bhi hamare bahut hi zyada khaas hote hai..!

Comments are closed.