ghar ki yaden shayari in hindi

घर परिवार की याद शायरी इन हिंदी | Ghar ki yaadein shayari

बेशक घर की याद किसे नहीं आती है। आप में से बहोत से लोग ऐसे होंगे जो अपने घर से बहोत दूर रहते होंगे और एक या दो साल में ही सिर्फ घर जा पते होंगे, जैसे हमारे फौजी भाई, या फिर वो लोग जो अपनी पसंद की कंपनी में जॉब तो कर रहे होंगे,  लेकिन अपने शहर से बहोत दूर होने पर अपने घर वालो से मिलने नहीं जा पते होंगे। तो हम उन लोगो के लिए लेकर आये है घर की याद शायरी हिंदी में।

दोस्तों अपना घर तो अपना ही होता है फिर चाहे आप कितने भी दिन 5 स्टार होटल में रहने का मजा लेकर आये हो, जो फीलिंग अपने घर में आकर और जो सुकून अपने घर में आकर मिलता है वो कही नहीं मिलता,

आज की यह पोस्ट में हम घर की याद पर शायरी लिखने वाले है, जो आपको बेहद पसंद आएगी और आप की अपने बीते कल की याद जरूर दिला कर जायगी,


ghar shayari, ghar quotes, Home quotes in hindi, ghar ki yaadein shayari, घर की याद शायरी इन हिंदी, ghar quotes in hindi, apna ghar quotes in hindi, ghar ki jimmedari status in hindi, shayari on ghar, ghar se dur shayari in hindi, ghar ki yaad status in hindi, ghar ki yaad shayari in hindi, ghar ki yaad shayari in urdu, ghar ki yaad hindi shayari, Kuch khwahisho ne, kuch zarurato ne majboor Kiya, Ghar ki zarurato ne hi

घर परिवार की याद शायरी इन हिंदी | Ghar ki yaadein shayari ghar se door kiya!!

ghar ki yaden shayari in hindi

Ghar shayari In Hindi

कुछ ख्वाहिशों ने,
कुछ जरूरतों ने मजबूर किया,
घर की जरूरतों ने ही घर से दूर किया!!

Kuch Khwahisho ne,
kuch Zaruraton ne majboor kiya,
ghar ki zaruraton ne hi ghar se door kiya.

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Aaj bhi weh ghar Khali hai,
Jahan pehle khushiya basti thi,
Ghar ki tangni bhi Khali hai,
Jaha gili chadar tangti thi!!

आज भी वह घर खाली है,
जहां पहले खुशियां बस्ती थी,
घर की टंगनी भी खाली है,
जहा गीली चादर टंगती थी!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Ek khunta Ada hai, khada hai…
Apne bachde ki talash me,
Kya bandh payega fir se bachda,
Apne khunte ki niwaas me!!

एक खूंटा अड़ा हे, खड़ा है…
अपने बछड़े की तलाश में,
क्या बंध पाएगा फिर से बछड़ा,
अपने खूंटे की निवास में!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Bijli gull hai, pani ghar se,
Utar chuka, sadak Baha bahaw me,
Kab aayega Ghar ka malik,
Fir loutkar apne gaaw me!!!

बिजली गुल है, पानी घर से,
उतर चुका, सड़क बहा बहाव में,
कब आएगा घर का मालिक,
फिर लौटकर अपने गांव में!!

यह भी पढ़े : दूर जाने की शायरी इमेज

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Home quotes in Hindi

घर पर शायरी इन हिंदी

Jane kese kuch parinde,
Chod kar apna basera,
Bana liya karte…
Idhar udhar dera!!

जाने केसे कुछ परिंदे,
छोड़ कर अपना बसेरा,
बना लिया करते,,,,
इधर उधर डेरा!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Kisi ko ghar mili hisse me,
Kisi ko dukaan aayi,
Kisi ko ghar mili hisse me,
Kisi ko dukaan aayi,
Me Ghar me sabse choti….
Mere hisse me apni maa aayi!!

किसी को घर मिला हिस्से में,
किसी को दुकान आई,
किसी को घर मिला हिस्से में,
किसी को दुकान आई,
में घर में सबसे छोटी….
मेरे हिस्से में अपनी मां आई!!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Waqt ka kissa bhi ajeeb hai janab,
Subh ko jis ghar se bhag kar nikle the,
Shaam hone par logo se hum usi Ghar ka
pata puuch rahe hai!!

वक्त का किस्सा भी अजीब है जनाब,
सुबह को जिस घर से भाग कर निकले थे,
शाम होने पर लोगो से हम उसी घर का पता पूछ रहे है।।

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

maa ke bina ghar me,
ek t-shirt nahi milta,
to zindagi me,
sukoon kha se milega…

माँ के बिना घर में,
एक t-shirt नहीं मिलता,
तो ज़िन्दगी में,
सुकून कहा से मिलेगा।।

यह भी पढ़े : नारजगी दूर करने वाली शायरी

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Ghar ki yaadein shayari

Ghar Ki yaad shayari in hindi

kitne tanha ho gaye ghar se duur reh kar,
jee to rahe hai magar majboor hokar…

कितने तन्हा हो गए है घर से दूर रह कर,
जी तो रहे मगर मजबूर हो कर ।।

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

yaad aati hai ghar ki humko,
din ke har peher me,
ab jo rehne lage he ghar se duur hum,
ye noukri wale sheher me…

याद आती है घर की हमको,
दिन के हर पेहेर में,
अब जो रहने लगे हे घर से दूर हम,
ये नौकरी वाले शहर में।।

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

humne bhi so kar dekha hai,
naye purane shehro mein,
jesa bhi hai apne ghar ka bistar,
acha lagta hai…

हमने भी सो कर देखा है,
नए पुराने शहरों में,
जैसा भी हे अपने घर का बिस्तर,
अच्छा लगता है।।।

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

duur hai tumse, par fir bhi me duur nahi…
majboor hu milne ko, par fir bhi me majboor nahi…
ek chiraag hi jala dena mere naam ka maa,
mera saya hi sahi, koi to pahuch sakega is diwali waha…

दूर है तुमसे, पर फिर भी में दूर नहीं,
मजबूर हु मिलने को, पर फिर भी में मजबूर नहीं,
एक चिराग ही जला देना मेरे नाम का माँ,
मेरा साया ही सही, कोई तो पहुंच सकेगा इस दीवाल वहाँ।

यह भी पढ़े :  मनाने वाली शायरी

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

घर की याद शायरी इन हिंदी

ghar bethe hai, ghar me bhi ab araam nahi,
chain gaya kahi, na dil, na karar hai,
tufaan si uth rahi hai, man bechain ho raha hai,
pade hai bistar me, na ab koi kaam hai, na dhaam ha,
ghar ke kone kone ka gyaan hai, bas gyaaan hai…

घर बैठे है, घर में भी अब आराम नहीं,
छान गया कही, न दिल न करार है,
तूफ़ान सी उठ रही है, मन बेचैन हो रहा है,
पड़े है बिस्तर में, न अब कोई काम हैं, धाम है,
घर के कोने कोने का ज्ञान है, बस ज्ञान है।।।

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

ghar shayari in hindi with images
ghar shayari in hindi with images

Analog Black Dial Men's and Women's Couple Watch -Black DD+Magnet

khoobsurti chehre ki nahii,
khoobsurti dil ki dekhiye,
khoobsurti makaan ki nahi,
khoobsurti ghar ki dekhiye…

ख़ूबसूरती चेहरे की नहीं,
ख़ूबसूरती दिल की देखिये,
ख़ूबसूरती मकान की नहीं,
ख़ूबसूरती घर क देखिये।।

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

khushi ke mahol me,
mout ka farman aa raha hai,
jo kehte the ki gaaaw me kya rakha hai,
aaj unhe bhi gaaw yaad aa raha hai….

खुशी के माहौल में,
मौत का फरमान आ रहा हैं,
जो कहते थे की गांव में क्या रखा है,
आज उन्हें भी गांव याद आ रहा हैं।।

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

jo kehte the apno ko,
ki tarakki me he duniya meri,
aaj unhe apno ka khyaal aa raha haii…

जो कहते थे अपनों को,
की तरक्की में है दुनिया मेरी,
आज उन्हें अपनों का ख्याल आ रहा है।।

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Ghar ki jimmedari status in hindi

lo safar shuru ho gaya hai,
ghar se clg or clg se ghar…
pure din ka chakkar laga rehta hai…

लो सफर शुरू हो गया है,
घर से कॉलेज और कॉलेज से घर
पुरे दिन का चक्कर लगा रहता हैं ।।

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Ujale khareedne gaya tha, jugnu Bator laya hu,
Ek umr ka gum me, yaha tak utha laya hu,
Aao khushiya mana le, kuch din talak yaro,
Magar ittala karo, me apne ghar lout aaya hu!!!

उजाले खरीदने गया था, जुगनू बटोर लाया हु,
एक उम्र का गम में, यहाँ तक उठा लाया हु,
आओ खुशियां मना ले कुछ दिन तलक यारो,
मगर इतला करो, में अपने घर लौट आया हु!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

घर परिवार की याद शायरी इन हिंदी

यह भी पढ़े : भाई के लिए शायरी

Aaya hai paigam ki wo ghar aa rahe!
Jab se mare khushi hum fule nahi sama rahe!!!

आया है पैगाम की वो घर आ रहे!
जब से मारे खुशी हम फुले नहीं समा रहे!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Ghar ki zarurato ne hi ghar se door kiya

Gaaw ki galiyon ne bhi pehchan ne se inkaar kar Diya,
Yun kisi se jyada din duur rehna acha nahi hota.!!

गांव की गलियों ने भी पहचान ने से इन्कार कर दिया.
यूं किसी से ज्यादा दिन दूर रहना अच्छा नही होता !!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Kuch zarurato ne majboor Kiya Shayari

Chod gaya tha me wraksho ki chaaw ko,|
Sheher ki chakachondh ke liye,
Aayi hai musibat mujh par,
Mera gaav bahe felaye fir bulane laga!!

छोड़ गया था में व्रक्षो की छांव को,
शहर में चकाचौंध के लिए,
आई हे मुसीबत मुझपर,
मेरा गांव बाहें फैलाए फिर बुलाने लगा!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Ye anjan sa sheher, suuni si sadke or kya kya nahi hota,
Puchiye unse jinka ghar hote hue bhi… Ghar nahi hota!!

ये अनजान सा शहर, सुनी सड़के और क्या क्या नहीं होता,
पूछिए उनसे जिनका घर होते हुए भी…. घर नही होता!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Pages: 1 2