Allah Ki Tareef Par Hindi Shayari. अल्लाह की तारीफ हिंदी शायरी

अल्लाह की तारीफ शायरी :- Wese To Hamne Bahot Si Shayariya Is Website Me Upload Kar Rakhi hai, Lekin yeh Wali jo post hai na Ye Sirf Or Sirf Us Ke liye hai. jo Kabhi thakna nahi, jo kabhi dene se rukta nahi, jiske darbar ma agar koi dua ke liye haath utha le  to fir khali haath wapas karta nahi.

yeh i’m talking about my Allah.

is post me sirf or sirf allah ki badai se judi Shayariyan hi publish ki jaygi. to aap log chahe to hamari is post ko apne dosto ke sath share kar sakte hai.


Allah Ki Tareef Par Hindi Shayari

मेरा इश्क़ ले गया मुझे मेरे अल्लाह के करीब,
तुझे पाने की ज़िद्द में मेने सजदे बढ़ा दिए।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

Allah Ki Tareef Quotes in Hindi

साल भर तड़पता रहा वो मुफ़लिस भूख से,
आज बहोत फख्र से कहता है, वो रोज़े है।!।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

सदक़ा हर बाला को टाल देता है,
अल्लाह की राह में खर्च करने वाला,
कभी मोहताज़ नहीं होता।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

बहोत खूबसूरत लोगो से नवाज़ा है मेरे अल्लाह ने मुझे,
जो कभी भूल से कोई खता हो गई हो माफ़ करना यारो।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

मैं जब भी गिड़गिड़ाता हूँ, तो ऐसा लगता है की
मेरा अल्लाह मेरे पास बैठे है और मेरे दर्द को सुन रहे है।

Allah Ki tareef ki dua Shayari in Hindi

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

इसबार फिर से मोहब्बत की है,
और यकीनन इसबार उम्मीद नहीं टूटेगी,
क्युकी इस बार इंसान से नहीं,
अल्लाह से मोहब्बत की है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

इलाही नहीं है कोई “तबीब” सिवाय तेरे,
फ़क़्र ए गम है ‘वाहिद आसरा तू’

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

सर झुकाने से सुकून मिलता है,
इबादत से चेहरे पे नूर खिलता है,
कोई खाली नहीं लौटा, कभी आपके दर से,
वो अल्लाह ही है जो हर दुआ क़ुबूल करता है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

ऐसी अज़मत है मेरे रब की,
उसकी इबादत सुकून और उसपर भरोसा
हिम्मत देता है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

ये मत कहो खुदा से मेरी मुश्किल बड़ी है,
इन मुश्किलों से कह दो मेरा खुदा तुम सब से बड़ा है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

बात सजदों की नहीं नियत की है,
मयखाने में हर कोई शराबी और मस्जिद में हर कोई
नमाज़ी नहीं होता।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

अल्लाह पर भरोसा रखो,
जिस से वो मोहब्बत करता है,
उसी का इम्तेहान भी लेता है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

जब मेरा अल्लाह
“Kun” कह देता है तो फिर इन ज़मीनी खुदाओ का
ज़ोर नहीं चलता।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

खुदा की आज़माइश के वक़्त सब्र रखोगे तो,
दुआओ में असर भी जल्दी आएगा।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

दुनिया की ठोकरों से एक सबक तो सीख लिया है,
की हर मुश्किल का हल सजदा-ए-खुदा में छुपा है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

अपने रब से रोकर मांग लिया करो,
वो किसी के रोने पर हस्ता नहीं है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

Allah Ki Tareef Shayari In urdu

या अल्लाह मुझे वो सब्र अत फरमाइए,
जिसके बाद कभी मेरा हौसला न टूटे।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

मैंने अपनी औकात को करीब से देखा है,
तो पता चला की चाँद सांसे है और वो भी अल्लाह की मोहताज है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

अल्लाह ताला फरमाते है की ए मेरे बन्दे!
आज तू मेरे थोड़े दिए पर राजी हो गया,
तो कल में तेरे थोड़े आमलों पर राज़ी हो जाऊंगा।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

जिस माँ ने जन्म दिया है,
वो इतना प्यार करती है,
तो जिस रब ने कहलक किया है,
वो कितना प्यार करता होगा।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

पैसो की अमीरी तो आम है,
दिल की अमीरी अल्लाह किसी किसी को देता है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

खुदा की इबादत में जो मिलती है डिश्नगी,
खुदा की कसम वो लफ्ज़ो में बयां हो ही नहीं सकती।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

और बेशक अल्लाह ताला के फैसले
हमारे ख्वाहिश और आरज़ू से बेहतर होते है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

इबादत करते वक़्त पर मांगी हुई दुआ,
कभी रद्द नहीं होती, बस सही वक़्त पर क़ुबूल होती है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

जिस्म को सवार के तुम्हे क्या मिल जायगा,
होनी रूह को सवारों तुम्हे खुदा मिल जायगा।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

किसीने अल्लाह कहा
किसीने बिस्मिल्लाह कहा,
खैरियत पूछी जब लोगो ने,
तो मेने अल्हम्दुलिल्लाह कहा।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

क़ुरान के होते हुए
इंसान है परेशां,
यही किस्सा देख कर के तो खुश है,
शैतान।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

जिस मकसद के लिए कोई चीज़ बनाई जाती है,
अगर वो चीज़ उस मकसद में इस्तेमाल हो तो नफा देती है,
क्योकि इंसान को अल्लाह ने अपने लिए बनाया है,
जब यह अल्लाह का होता नहीं तो परेशां रहता है।

⋅•⋅⊰∙∘☽༓☾∘∙⊱⋅•⋅

यह भी पड़े :-