भरोसा झूठ शायरी

भरोसा तोड़ने वाली शायरी | Bharosa Todne Par Shayari

हमारी ज़िन्दगी में बहुत से ऐसे लोग शामिल हे जिनपर हम बहुत भरोसा करते है । और अपना सब कुछ न्योछावर करने तक को तैयार रहते है। लेकिन वो कहते है ना की कुत्ते को घी हज़म नहीं है। ऐसे ही जिन लोगो पर हम भरोसा करते हे वो भी हमारे भरोसे के लायक नहीं होते हे।

दोस्तों आज की यह पोस्ट भरोसा तोड़ने वाली शायरी पर लिखी गई है। जिसमे एक से भड़कर एक Bharosa todne wali shayari हमने लिखी है। इन शायरियों को आप अपने स्टेटस में लगा कर जिन लोगो ने आपका भरोसा तोड़ा है उनको उनकी औकात दिखा सकते है।

इन स्टेटस को सिर्फ उसी इंसान को दिखाए जिसे आप उसकी औकात याद दिलाना चाहते है। आप से गुज़ारिश है की सभी लोगो को यह स्टेटस ना दिखाए वरना इससे ना इत्तेफाकियाँ फैलती है और रिश्तेदारी में भी फरक आता है ।।

Bharosa todna shayari | भरोसा तोडना शायरी हिंदी में

भरोसा तोड़ने वाली शायरी | Bharosa Todne Par Shayari

Hasna isliye pada, kyunki aasu dikha nahi sakte the,
Jiske liye jeete hai, use hum dard de nahi sakte the!!!

हंसना इसलिए पड़ा, क्योंकि आसू दिखा नही सकते थे,
जिसके लिए जीते है, उसे हम दर्द दे नही सकते थे !!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Agar is duniya ki sabse galat…
Koi cheez ho sakti hai na,
To wo kisi ka bharosa todna hi hai!!!

अगर इस दुनिया की सबसे गलत…
कोई चीज हो सकती है न,
तो वो किसी का भरोसा तोड़ना ही है!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Bharosa wo todte hai,
Jin par bharosa kiya jata hai!!!

भरोसा वह तोड़ते है,
जिन पर भरोसा किया जाता है !!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Aaj khud se ek wada esa bhi karna pada,
Khul kar rona chaha, magar muskurana pada!!!

आज खुद से एक वादा ऐसा भी करना पड़ा,
खुल कर रोना चाहा, मगर मुस्कुराना पड़ा!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Bharosa urdu shayari in Hindi

Bharosa urdu shayari in Hindi 

यह भी पढ़े :- कभी किसी पर विश्वास मत करना शायरी

Mene bhi koshish ki thi rone ki,
Fir unhi koshisho par hasi aa gayi!!!

मेने भी कोशिश की थी रोने की,
फिर उन्ही कोशिशों पर हसी आ गई!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Humne us par bharosa kar bola yeh,
Tum kisi se kehna mat,
Usne badi samajhdari se Dass logo ko bata…
Unse keh diya… Tum kisi se kehna mat!!

हमने उस भरोसा कर बोला यह,
तुम किसी से कहना मत,
उसने बड़ी समझदारी से दस लोगो को बता…
उनसे कह दिया… तुम किसी से कहना मत!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Pehle khud hi pasand karte hai, fir inkar kar dete hai,
Kisi dusre ke liye, pehle wale ko chod dete hai,
Jab pyaar hi nahi hota, to izhaar hi kyu karte he,
Dil lagane ke baad hi, kyu dil tod dete he!!!

पहले खुद ही पसंद करते है, फिर इनकार कर देते है,
किसी दूसरे के लिए, पहले वाले को छोड़ देते है,
जब प्यार ही नही होता, तो इजहार क्यों करते हे,
दिल लगाने के बाद ही, क्यों दिल तोड़ते हे!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Dohre chehre liye, dil sabke kale hai,
Yaha sirf dusro ki bhawnao se khelne wale hai,
Dusro ki bhawnao se khelne wale hai!!!

दोहरे चेहरे लिए, दिल सबके काले है,
यहां सिर्फ दूसरो की भावनाओ से खेलने वाले है,
दूसरो की भावनाओ से खेलने वाले है!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Bharosa todna shayari in hindi

Bharosa todna shayari in hindi

यह भी पढ़े :- प्यार में विश्वास शायरी

Bada mushkil hota hai, unse baate karna,
Jab aap kisi par bharosa kar rahe hote hai,
Aur aap unke jhuuth se wakif hote hai…

बड़ा मुश्किल होता है, उनसे बाते करना,
जब आप किसी पर भरोसा कर रहे होते है,
और आप उनके झूठ से वाकिफ होते है .!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Jab jab bharosa kiya hai mene,
Tab tab bharosa toota hai mera,
Ab to kisi par bharosa karne ka,
Mann hi nahi karta hai mera!!!!

जब जब भरोसा किया है मेने,
तब तब भरोसा टूटा है मेरा,
अब तो किसी पर भरोसा करने का,
मन ही नहीं करता है मेरा!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Bharosa kar liya hai usne Tera, jisne mera bharosa toda tha,
Wo tere liye duniya chod raha hai, jisne mera saath choda tha,
Tujhse umr bhar ka wada wo kya khaak nibhayega….
Jisne mere hote hue bhi kisi or se rishta joda tha!!!!

भरोसा कर लिया है उसने तेरा, जिसने मेरा भरोसा तोड़ा था,
वो तेरे लिए दुनिया छोड़ रहा है, जिसने मेरा साथ छोड़ा था,
तूझसे उम्र भर का वादा वो क्या खाक निभाएगा,
जिसने मेरे होते हुए भी, किसी और से रिश्ता जोड़ा था!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Fikr mat kar bande, kalam kudrat ke haath hai,
Likhne wale ne likh diya, takdeer tere saath hai,
Fikr karta hai kyun, fikr se hota hai kya,
Rakh khuda par bharosa, dekh fir hota hai kya!!!

फिक्र मत कर बंदे, कलम कुदरत के हाथ है,
लिखने वाले ने लिख दिया, तकदीर तेरे साथ है,
फिक्र करता है क्यों, फिक्र से होता है क्या,
रख खुद पर भरोसा, देख फिर होता है क्या!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

भरोसा झूठ शायरी

भरोसा झूठ शायरी

Ho sake to na todna ye bharosa…
Jism nahi jo bajaro me mil jayega!!!

हो सके तो न तोड़ना ये भरोसा,
जिस्म नही जो बाजारों में मिल जाएगा!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Wahi karo jo dil kahe,
Apni zindagi par sirf apna razz chalega,
Jin me akele chalne ka hosla hota hai,
Ek din un logo ke peeche duniya chalti hai!!!

वही करो जो दिल कहे,
अपनी जिंदगी पर सिर्फ अपना राज चलेगा,
जिन में अकेले चलने का हौसला होता है,
एक दिन उन लोगो के पीछे दुनिया चलती है!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Har rishte me neev ki bhati hota ye bharosa,
Tuutkar bikhar jata har wo rishta, Jisme Shaq hota jarasa,
Aksar barso lag jate hai, Jiss bharose ko kamane me,
Dhoke ya galat fehmi se, Kuch Shan bhi nahi lagte ise gawane me!!

हर रिश्ते में नीव की भाती होता ये भरोसा,
टूटकर बिखर जाता हर वो रिश्ता, जिसमे शक होता जरा सा,
अक्सर बरसो लग जाते है, जिस भरोसे को कमाने में,
धोखे या गलतफहमी से, कुछ क्षण भी नही लगते इसे गवाने में!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Tuuti cheeze humesha pareshan karti hai,
Jese dil… Neend… Bharosa,
Or sabse jyada kisi se umeed!!

टूटी चीज़े हमेशा परेशान करती है,
जैसे दिल… नींद…. भरोसा,
और सबसे ज्यादा किसी से उम्मीद!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

भरोसा स्टेटस इन हिंदी

भरोसा स्टेटस इन हिंदी

Pata nahi kyun darte hai log dusro se,
Jabki bharosa humesha apne hi todte hai!!

पता नही क्यों डरते है लोग दूसरो से,
जबकि भरोसा हमेशा अपने ही तोड़ते है !!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Jab shikayate khud se hi ho, ilzam dusro par kese,
Jawab khud ko hi pata na ho, kisi or se sawal kese,
Kamiya khud me hi ho, dusro par daag kese,
Wishwas khud se hi hat Jaye, kisi or par bharosa kese!!

जब शिकायते खुद से ही हो, इल्जाम दूसरो पर केसे,
जवाब खुद को ही पता न हो, किसी और से सवाल केसे,
कमिया खुद में ही हो, दूसरो पर दाग केसे,
विश्वास खुद से ही हट जाए, किसी और पर भरोसा केसे !!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Gujarte samay ke saath ab hum kho rahe hai,
Nahi socha tha, ki kabhi esa bhi hoga lekin…
Tajurba bharose ko le kar kuch yun hua ki,
Chehre par muskan le kar bhi andar se hum ro rahe hai!!

गुजरते समय के साथ अब हम खो रहे है,
नही सोचा था, की कभी ऐसा भी होगा लेकिन…
तजुर्बा भरोसे को लेकर कुछ यूं हुआ की,
चेहरे पर मुस्कान ले कर भी अंदर से हम तो रहे है!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

Bharosa rakh…. Tera din bhi zaruur aayega,
Tu mehnat to kar…. Tera parcham bhi zaruur lehrayega,
Tu shuruwat to kar…. Yakeenan khuda bhi tujhe ataa farmayega!!

भरोसा रख… तेरा दिन भी जरूर आएगा,
तू मेहनत तो कर… तेरा परचम भी जरूर लहराएगा,
तू शुरुवात तो कर… यकीनन खुदा भी तुझे अता फरमाए!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───