Mohabbat ka ehsas Shayari In Hindi

आज की इस पोस्ट में आपको देने जाने रहे हे मोहब्बत का एहसास शायरी संग्राहलय जिसमे आपको Mohabbat Ka Ehsas Shayari से जुडी बहोत सी नई शायरिया मिलेंगी और साथ ही Dooriyon ka ehsas shayari, pyar ka ehsas shayari, khone ka ehsas shayari, Uska ehsas shayari, Tera Ehsas shayari, ehsaas e mohabbat shayari, Pehli mohabbat ka ehsaas he shayari. इन सभी केटेगरी की शायरिया आपको आज की इस पोस्ट में हम देने वाले हे। 

मोहब्बत का एहसास शायरी । Mohabbat Ka Ehsas Shayari

Khamoshiya bahot kuch keh jati he,
bas unhe samjhane ke liye
Alfazo ki nahi jazbato ki jarurat hoti he.
..Dooriyon ka ehsas shayari..

खामोशिया बहुत कुछ कह जाती हे,
बस उन्हें समझने के लिए
अल्फाज़ो की नहीं जज़्बातो की जरुरत होती है.
..दूरियों का एहसास शायरी..


Har rishta vishvas se banta he,
Dil me pyar se banta he,
Haq na jatana kabhi kisi par,
kyoki aksar haq jatane se hi ghutan ka ehsas hota he.

हर रिश्ता विश्वास से बनता है,
दिल में प्यार से बनता है,
हक़ न जतना कभी किसी पर,
क्योंकि अक्सर हक़ जताने से ही घुटन का एहसास होता है.


Suno na…..
koshish he tere kabil banne ki,
or ik din mere andar bhi vo kabiliyat hogi,
karungi ibadat kuch khas
ab teri har mannat duao me kubul hogi,
bhulkar gile shikwe fir ham milenge,
or hamare mohabbat ki ek nai shuruaat hogi,
..pyar ka ehsas shayari..

सुनो न…..
कोशिश हे तेरे काबिल बनने की,
और इक दिन मेरे अंदर भी वो काबिलियत होगी,
करुँगी इबादत कुछ खास
अब तेरी हर मन्नत दुआओ में कुबूल होगी,
भूलकर गिले शिकवे फिर हम मिलेंगे,
और हमारे मोहब्बत की एक नई शुरुआत होगी,


Dooriyon ka ehsas shayari

Mene is hadd tak pyar kiya,,
Un par pyar ki barish kar di,
Isliye wo apne ghar se nahi nikle,
shayad unko yeh dar tha kahi mujhse pyar na kar bethe,
chhoti si zindagi he yaar khush raho,
hame dekho tum na sahi tumhari yado me khush he.

मेने इस हद्द तक प्यार किया,,
उन पर प्यार की बारिश कर दी,
इसलिए वो अपने घर से नहीं निकले,
शायद उनको यह डर था कही मुझसे प्यार न कर बैठे,
छोटी सी ज़िन्दगी हे यार खुश रहो,
हमें देखो तुम न सही तुम्हारी यादो में खुश हे.


Ek samay baad sab kam ho jata he,
Pyar bhi ehsas bhi,
Kadr bhi zikr bhi or zarurat bhi.

एक समय बाद सब काम हो जाता हे,
प्यार भी एहसास भी,
कद्र भी ज़िक्र भी और ज़रूरत भी.


Koi rang nahi ke barish ke pani me,
Fir bhi fiza to dekho,
Rangeen ho gai zamane me
..khone ka ehsas shayari..

कोई रंग नहीं के बारिश के पानी में,
फिर भी फ़िज़ा तो देखो,
रंगीन हो गई ज़माने में
..खोने का एहसास शायरी..


Meri rooh bhi hosh me ane ki izazat mange,
Leke tujhe apni baho mekho jau is tarah.

मेरी रूह भी होश में आने की इजाज़त मांगे,
लेके तुझे अपनी बहो मेखो जाऊ इस तरह.


pyar ka ehsas shayari

Khushi or gam me faraq na mehsus ho jaha,
Me dil ko us mukam pe laata chala gya.

ख़ुशी और गम में फरक न महसूस हो जहाँ,
में दिल को उस मुकाम पे लाता चला गया.


Jab Us Se Mohabbat Nahi Thi,
To kisi se nafrat bhi nahi ti,
fir zindagi me ek mod esa bhi aaya,
Jab mohabbat usse hui or
Nafrat sari duniya se kar bethe.
..Uska ehsas shayari..

जब उस से मोहब्बत नहीं थी,
तो किसी से नफरत भी नहीं तो,
फिर ज़िन्दगी में एक मोड़ ऐसा भी आया,
जब मोहब्बत उससे हुई और
नफरत साडी दुनिया से कर बैठे.
..उसका एहसास शायरी..


Dekh lena ek din ehsas hoga tumhe,
ki koi tha jo bina matlab ke chahta tha.

देख लेना एक दिन एहसास होगा तुम्हें,
की कोई था जो बिना मतलब के चाहता था.


Ek baar mujhe rok leti to me ruk bhi jata,
Par tumne esa chaha nahi,
Shayad wo pyar nahi raha vo ehsas nahi raha,
ek aas me jee raha hu, me kya ham fir se milenge
ya fir me isi aas ko dafan kar du.

एक बार मुझे रोक लेती तो में रुक भी जाता,
पर तुमने ऐसा चाहा नहीं,
शायद वो प्यार नहीं रहा वो एहसास नहीं रहा,
एक आस में जी रहा हु, में क्या हम फिर से मिलेंगे
या फिर में इसी आस को दफ़न कर दू.


khone ka ehsas shayari

Dhokha de rahi thi ek sharif chehre ki chamak mujhe,
Galti uski nahi meri hi thi,
jo kanch ke tukde ko hira samajh bethe.
..Tera Ehsas shayari..

धोखा दे रही थी एक शरीफ चेहरे की चमक मुझे,
गलती उसकी नहीं मेरी ही थी,
जो कांच के टुकड़े को हीरा समझ बैठे.
..तेरा एहसास शायरी..


Ye halki halki bewajae bewajah si muskurahat,
Is muskurahat se bhi ek shararat,
meri har baat me tera hi zikr,
kahi ye mohabbat ki aahat to nahi he,
Aahat ho ya pyar par yeh he,
Sabse khubsurat ehsas he,
Lagta he jese tu har pal mere aas paas he.

ये हलकी हलकी बेवजए बेवजह सी मुस्कराहट,
इस मुस्कराहट से भी एक शरारत,
मेरी हर बात में तेरा ही ज़िक्र,
कही ये मोहब्बत की आहट तो नहीं हे,
आहात हो या प्यार पर यह हे,
सबसे खूबसूरत एहसास है,
लगता हे जेसे तू हर पल मेरे आस पास हे.


Pyar he ya kuch or he nahi janta,
Me sirf itna janta hu ki me tumhe kabhi khona nahi chahta,
Inkar kab tak karoge ke pyar nahi he tumhe,
me yeh bhi janta hu kismat me honge to ek din mil hi jaoge.
..ehsaas e mohabbat shayari..

प्यार है या कुछ और हे नहीं जानता,
में सिर्फ इतना जनता हूँ की में तुम्हे कभी खोना नहीं चाहता,
इंकार कब तक करोगे के प्यार नहीं है तुम्हे,
में यह भी जानता हूँ किस्मत में होंगे तो एक दिन मिल ही जाओगे.
..एहसास ए मोहब्बत शायरी..


Meri yahi khwahish he, har pal ham sath ho,
Meri baho me tum raho in aankho se pyar ho,
Is khoobsurat jaha ko ham ek sath dekhe,
Tum meri nazar se dekho or me tumhari nazar se.

मेरी यही ख्वाहिश है, हर पल हम साथ हो,
मेरी बाहों में तुम रहो इन आँखों से प्यार हो,
इस खूबसूरत जहा को हम एक साथ देखे,
तुम मेरी नज़र से देखो और में तुम्हारी नज़र से.


Mulakat to vese bhi nahi hoti thi aapse,
par in dino ehsas kuch badh sa gya he.

मुलाकात तो वैसे भी नहीं होती थी आपसे,
पर इन दिनों एहसास कुछ बढ़ सा गया है.


Mohabbat bahut khobsurat shabd lagta he na,
Par galat insan se ho jae to jahar lagta he,
Hoti hogi Mohabbat khubsurat tum sab ke liye,
Idhar to ham hi jante he ham par jo guzri he.

मोहब्बत बहुत खूबसूरत शब्द लगता है न,
पर गलत इंसान से हो जाए तो जहर लगता हे,
होती होगी मोहब्बत ख़ूबसूरत तुम सब के लिए,
इधर तो हम ही जानते हे हम पर जो गुजरी है.


Uska ehsas shayari

Ishq karlo marzi tumhari he..
Bikhar bhi sakte ho, Nikhar bhi sakte ho,
Marzi tumhari he…!

इश्क़ करलो मर्ज़ी तुम्हारी हे..
बिखर भी सकते हो, निखार भी सकते हो,
मर्ज़ी तुम्हारी हे…!


Bhale hi kabhi na mukammal ho ishq mera,
Magar mere har pal me rahe ehsas sirf tera..
..Pehli mohabbat ka ehsaas he shayari..

भले ही कभी न मुकम्मल हो इश्क़ मेरा,
मगर मेरे हर पल में रहे एहसास सिर्फ तेरा..
..पहली मोहब्बत का एहसास है शायरी..


Jab tak khud par na gujre,
Ehsas or jajbat majak lagte he.

जब तक खुद पर न गुजरे,
एहसास और जज़्बात मजाक लगते हे.


Suno, me lafzon se ishara karunga jane ka,
Tum meri aankhe pad kar rok lena mujhe.

सुनो, में लफ़्ज़ों से इशारा करूँगा जाने का,
तुम मेरी आँखे पढ़ कर रोक लेना मुझे.


Wafao se mukar jana,
Hame aata nahi aksar,,,
Nibha jaynge mar ke bhi,
Yahi he falsafa apna…!

वफाओ से मुकर जाना,
हमें आता नहीं अक्सर,,,
निभा जायँगे मर के भी,
यही हे फलसफा अपना…!


Chere par hasi dil me dard he…
Hn-haa Yeh hi ishq ka marz hai..

चेरे पर हसी दिल में दर्द है…
हं-हां यह ही इश्क़ का मर्ज़ है..


Hn ha pata hai…
hame na bataye..!
ishq aek bala he hame na fasay.

हं हा पता है…
हमें न बताये..!
इश्क़ एक बला है हमें न फसे.


Pehli mohabbat ka ehsaas he shayari

Kitne nadan he hum,
Jisne dil toda,
Usi pe meherban he hum.!

कितने नादाँ हे हम,
जिसने दिल तोडा,
उसी पे मेहरबान है हम.!


Aaj suraj ko dekh ek ehsas hua,
Jab yeh roz rat ke andhero me dhalne ke bad
bhi ek nai roshni ek nai,
Umang ke sath Roz subhe aa sakta he to me kyu nhi.
..Pehli mohabbat ka ehsaas he shayari..

आज सूरज को देख एक एहसास हुआ,
जब यह रोज़ रात के अंधेरों में ढलने के बाद
भी एक नई रौशनी एक नई,
उमंग के साथ रोज़ सुभे आ सकता हे तो में क्यों नहीं.
..पहली मोहब्बत का एहसास है शायरी..


Aankho se gale laga lijiy…
Seene se lagane par pabandiya bahot he.

आँखों से गले लगा लीजिए…
सीने से लगाने पर पाबंदिया बहोत हे.


Tere shirt ki khushbo jo ehsas dilati he,
Mehnge se mehnge itro me wo baat nahi he.

तेरे शर्ट की खुशबू जो एहसास दिलाती हे,
महंगे से महंगे इतरो  में वो बात नहीं हे.


Jo nahi chahte Mile ja raha he,
Jo ham chahte he hamse dur chale jaa raha he.

जो नहीं चाहते मिले जा रहा है,
जो हम चाहते हैं हमसे दूर चले जा रहा है.


Ki in panno se tumhari tarife karna,
keh do ki ye bhi lazmi nahi
gar khatm ho chuke he ehsas mere
to keh do ki tum bhi ab khash hi nahi.

की इन पन्नो से तुम्हारी तारीफ़े करना,
कह दो की ये भी लाज़मी नहीं
गर ख़त्म हो चुके हे एहसास मेरे
तो कह दो कि तुम भी अब खश ही नहीं.


Aane jane se rishte bade rehte he,
Jese pani pine se ped hare rehte he,
Ehsas bhale hi guzar jae waqt ke saath,
Magar wade apni jagah khade rehte he.

आने जाने से रिश्ते बड़े रहते हे,
जैसे पानी पीने से पेड़ हरे रहते हे,
एहसास भले ही गुज़र जाए वक़्त के साथ,
मगर वेड अपनी जगह खड़े रहते हे.


Jisne Dil toda bas usi ke samne,,,
Muskurate he,,
baakiyo ko to bas apni,, Udasi batate he.

जिसने दिल तोडा बस उसी के सामने,,,
मुस्कुराते है,,
बाकियों को तो बस अपनी,, उदासी बताते हे.


To yeh thi dosto Mohabbat Ka Ehsas Shayari, Dooriyon ka ehsas shayari, pyar ka ehsas shayari, khone ka ehsas shayari, Uska ehsas shayari, Tera Ehsas shayari, ehsaas e mohabbat shayari, Pehli mohabbat ka ehsaas he shayari. 

to agar apko hamari shayariyan pasand aai to ise apne dosto ke sath share jarur karen.

यह भी पड़े :-

Leave a Reply