pyar wali shayari in hindi – (2022)

pyar wali shayari, pyar wali shayari in hindi, shayari mohabbat wali, pyar wali shayari hindi, pyar wali shayari 2022, shayari mohabbat wala, pyar wali shayari hindi mein, pyaar wali shayari in hindi, pyar wali shayari photo, pyar vali shayri in hindi, pyar badhane wali shayari, hindi pyar wali shayari, romantic pyar wali shayari, pyar wali shayari in urdu, pyar wali shayari urdu,

pyar shayari,प्यार भरी शायरी, प्यार बढ़ाने वाली शायरी, प्यार लव शायरी, मोहब्बत शायरियां, प्यार शायरी, प्यार की शायरी, प्यार के मैसेज, प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में, सच्चा प्यार करने वाली शायरी, बहुत प्यार करने वाली शायरी, प्यार वाली गम भरी शायरी, प्यार वाली शायरी, प्यार में धोखा बेवफा शायरी, पयार मोहबत शायरी, सच्चा प्यार करने वाली शायरी हिंदी में, pyar mohabbat shayari, प्यार भरी गुड मॉर्निंग शायरी, बेहद प्यार वाली शायरी


Pyar wali shayari in hindi


यह दिल भी तो डूबेगा समंदर में किसी के,
हम भी तो लिखे होंगे मुकद्दर में किसी के ।।


तुम मेरे ख्वाब का वो हिस्सा हो,
जो मेने हक़ीक़त में देखा है ।।


ना दिन है ना कोई रात,
ना कोई अपना ना ही कोई साथ,
आँखे जैसी दुनिया वैसी,
बस इतनी सी बात ।।


आज में भी कुछ सपने लेकर आया हूँ,
तू मखमल में पाली भड़ी, और में मिटटी में ।


प्यार में किसी को सुकून कहाँ भाता है,
कम्बख्त इश्क़ तो सारी रात जगाता है ।।


कुछ तो था हमारे बिच,
यूँही नहीं रात भर बाटे होती थी,
मीलों दूर थे हम, फिर भी कभी दुरी महसूस नहीं होती है ।


ख्वाब तुम्हारे ही रहेंगे हमेशा,
मुझे भरोसा है अपनी आँखों पर ।।


हमारी बरी आई तो रिवाज ही बदल गया !
वर्ना मोहब्बत मिलती थी मोहब्बत के बदले ।


गुस्से मैं बात करने का अंदाज़ नहीं बदलते,
हाँ कुछ लोग तनहा जी लेते है, पर यार नहीं बदलते ।।


बर्दास्त नहीं तुम्हे किसी और के साथ देखना,
बात शक की नहीं बात हक़ की है ।।


shayari mohabbat wali

तू ख्वाहिश नहीं है जो अधूरी है,
तू ज़िद है मेरी जो जरुरी है ।।


मैं अक्सर मुट्ठी बंद रखता हूँ,
मुझे डर है तेरे फिसल जाने का ।।


पागल, दीवाना, क़ातिल, बेगैरत, बना देती है ।
आदमी को जाने क्या क्या बना देती है ।।


ये जो चेहरे पे नूर है तुम्हारे बड़ा क़ातिलाना है,
कभी सुन लो हाल ऐ दिल मेरा तुम्हे सुनाना है ।


वो छत पर कड़ी सुलझा रही थी मांझा,
मैं गली के मोड़ पर खड़ा,
ढूंढ रहा था डोर उसके दिल की।


मैंने यही सोच कर कभी सफाई नहीं दी,
इलज़ाम झूठा ही सही पर लगाया तुमने ही ।।


अजीब सिलसिला है उसकी मोहब्बत,
उसे जब तक याद दिलाओ, तभी तक याद रहता है ।।


कुछ तो खोया है उसने मेरा तरह,
मैंने चाहत गवाई तो उसने बेहद चाहने वाला ।।


तुम्हारे दिल में कोई आइना वगैरह लगा है क्या,
क्योकि मैं खुद को तुझमे देख रहा हूँ ।।


तेरा शहर जो पीछे छूट गया,
कुछ अंदर ही अंदर टूट गया ।।
हैरान है मेरे दो नेन,
यह झरना कहाँ से फुट गया ।।

यह भी पढ़े : 


Pages: 1 2