saas bhi kabhi bahu thi shayari

saas bahu ki shayari | सांस बहु की साजिश शायरी

saas bahu ki shayari, हेलो दोस्तों तो कैसे है आप सभी उम्मीद है बढ़िया होंगे, दोस्तों हर लड़की को शादी के बाद अपने पति की मां यानि अपनी सास के साथ ज़िंदगी बितानी होती है।
कहा जाता है की इस दुनिया में सास बहू से ज्यादा प्यारा व मजेदार रिश्ता ओर कोई नहीं है, क्योकि सास बहू के रिश्ते में कभी प्यार तो कभी नोक झोंक चलती रहती है, लेकिन आज-कल टीवी सीरियलों ने इस रिश्ते में नकारात्मक धारणा पैदा कर दी है।
अगर रियल लाइफ में देखा जाये तो सास बहू के रिश्ते में मां बेटी का गहरा प्यार देखने को मिलता है।
इस आर्टिकल में हमने सास बहु के प्यार व नोक झोक के रिश्ते पर बेहद ही प्यारी, खुबसूरत व मजेदार सास बहु की शायरी लिखी है, जो आप सभी को बेहद पसंद आएगी और आप हमारी शायरी अपने सोशल स्टेटस पर ज़रूर लगाएंगे, तो चलिए दोस्तों शुरू करते है, सास बहु शायरी सिर्फ और सिर्फ राहत इन्दोरी शायरी पर!!!

saas bhi kabhi bahu thi, saas bahu takkar
saas bahu aur saazish, saas aur bahu, saas bahu, saas bahu shayari, saas bahu saazish, saas bahu aur saazish facebook, saas bahu aur shayari today

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

saas bahu ki shayari | सांस बहु की साजिश शायरी

saas bahu ki shayari | सांस बहु की साजिश शायरी

Analog Black Dial Men's and Women's Couple Watch -Black DD+Magnet

यह भी पढ़े :- अपनों से बिछड़ना शायरी 

dil se use apana kar dekho,
gale ek baar laga kar dekho,
bhool jaegee maayaka apana,
bahoo ko betee bula kar dekho!!!

दिल से उसे अपना कर देखो,
गले एक बार लगा कर देखो,
भूल जाएगी मायका अपना,
बहू को बेटी बुला कर देखो!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
bahu apane aap ko kabhee akela mat samajhana,
hamaara rishta janmon ka naya navela mat samajhana,
ghar kee khushiyon kee zimmedaaree ab aapakee hai,
zimmedaariyon ko betee kabhee jhamela mat samajhana!!!
बहु अपने आप को कभी अकेला मत समझना,
हमारा रिश्ता जन्मों का नया नवेला मत समझना,
घर की खुशियों की ज़िम्मेदारी अब आपकी है,
ज़िम्मेदारियों को बेटी कभी झमेला मत समझना!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
apanee bahu mein tum betee dekhana,
phir vo sasur mein baap aur,
saas mein maan dekhegee dekhana!!!
अपनी बहु में तुम बेटी देखना,
फिर वो ससुर में बाप और,
सास में माँ देखेगी देखना!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
khushiyon kee chaadar mein pyaar kee turapaee karoongee,
baaton ko apanee makhamalee chaarapaee karoongee,
betee samajh kar dil mein jagah dena saasoo maan,
aapakee betee kee yaadon kee main bharapaee karoongee!!!
खुशियों की चादर में प्यार की तुरपाई करूँगी,
बातों को अपनी मखमली चारपाई करूँगी,
बेटी समझ कर दिल में जगह देना सासू माँ,
आपकी बेटी की यादों की मैं भरपाई करूँगी!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

saas bahu takkar | सास बहु तकरार शायरी

Analog Black Dial Men's and Women's Couple Watch -Black DD+Magnet

saas bahoo mein ho maan betee vaala pyaar,
khatm is rishte se ho jae har takaraar,
pyaar mohabbat aur ho bas apanaapan,
kitana sundar phir ho jae ye sansaar!!
सास बहू में हो माँ बेटी वाला प्यार,
ख़त्म इस रिश्ते से हो जाए हर तकरार,
प्यार मोहब्बत और हो बस अपनापन,
कितना सुंदर फिर हो जाए ये संसार!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
ghar ke sanskaaron ko aanch na aane doongee,
parivaar mein kisee teesare kee jaanch na aane doongee,
ek sanskaaree bahoo saas se ye vaada karatee hai,
rishton ke beech mein deevaar na kaanch aane doongee!!!
घर के संस्कारों को आँच ना आने दूँगी,
परिवार में किसी तीसरे की जाँच ना आने दूँगी,
एक संस्कारी बहू सास से ये वादा करती है,
रिश्तों के बीच में दीवार ना काँच आने दूँगी!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
sasuraal mein bhee ik maan hotee hai,
gavaah usakee vo akhiyaan hotee hai,
dil ka tukada bichhad jaata hai,
kisee kee bhee betee jab javaan hotee hai!!!
ससुराल में भी इक माँ होती है, गवाह उसकी वो अखियाँ होती है,
दिल का टुकड़ा बिछड़ जाता है, किसी की भी बेटी जब जवां होती है!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
apanee saas ko hamesha khushee dete rahana,
usakee baaton ko kabhee dil par na lena,
apanee baaton se usaka dil jeetana,
aur hamesha saas ko maan jee hee kahana!!!
अपनी सास को हमेशा खुशी देते रहना,
उसकी बातों को कभी दिल पर ना लेना,
अपनी बातों से उसका दिल जीतना,
और हमेशा सास को माँ जी ही कहना!!!

───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

saas bahu aur shayari today

Analog Black Dial Men's and Women's Couple Watch -Black DD+Magnet

maan jaisee saas ko paakar main dhany ho gaee,
thee talaash mujhe eeshvar kee vah shoony ho gaee,
kya aur taareeph karoon apanee saasoo maan kee,
us devee svaroop kee bhakt mein anany ho gaee!!!
माँ जैसी सास को पाकर मैं धन्य हो गई,
थी तलाश मुझे ईश्वर की वह शून्य हो गई,
क्या और तारीफ करूँ अपनी सासू माँ की,
उस देवी स्वरूप की भक्त में अनन्य हो गई!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
saas bahoo ka rishta hamaara maan betee se kam nahin hai,
pyaar hee pyaar milega isamen kaheen gam nahin hai,
kar sake jo is rishte kee baraabaree,
jahaan ke kisee rishte mein itana dam nahin hai!!!
सास बहू का रिश्ता हमारा माँ बेटी से कम नहीं है,
प्यार ही प्यार मिलेगा इसमें कहीं ग़म नहीं है,
कर सके जो इस रिश्ते की बराबरी,
जहां के किसी रिश्ते में इतना दम नहीं है!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
phool ko phool kahane mein kya buraee hai,
use dil mein jagah dene mein kya buraee hai,
jo saas ko maan sasur ko paapa kahe,
us bahu ko betee kahane mein kya buraee hai!!!
फूल को फूल कहने में क्या बुराई है,
उसे दिल में जगह देने में क्या बुराई है,
जो सास को मां ससुर को पापा कहे,
उस बहु को बेटी कहने में क्या बुराई है!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
saas bhee kabhee bahoo thee yah bhulana mat,
bahoo ko har vakt taraazoo mein tol na mat,
ho gile-shikava to mil ke sulajhaana,
ghar ke rishton ko gairon se kholana mat!!!
सास भी कभी बहू थी यह भुलना मत,
बहू को हर वक्त तराज़ू में तोल ना मत,
हो गिले-शिकवा तो मिल के सुलझाना,
घर के रिश्तों को ग़ैरों से खोलना मत!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───

saas bhi kabhi bahu thi shayari

Analog Black Dial Men's and Women's Couple Watch -Black DD+Magnet

bhale hee tujhe kokh se janm na diya,
magar bahoo ke roop mein betee ko pa liya,
tujh jaisee bahoo paakar mujhe lagaata hai,
pichhale janm mein mainne kuchh achchha kiya!!!
भले ही तुझे कोख से जन्म ना दिया,
मगर बहू के रूप में बेटी को पा लिया,
तुझ जैसी बहू पाकर मुझे लगाता है,
पिछले जन्म में मैंने कुछ अच्छा किया!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
rakhatee hai khyaal bete se badhakar use bahoo kaise kahoon,
muskaan mein dikhe betee kee jhalak use bahoo kaise kahoon,
kabhee zor kee saans le loon to vo uth khadee hotee hai,
jo thakatee nahin hai maan maan kahate use bahoo kaise kahoon!!!
रखती है ख़्याल बेटे से बढ़कर उसे बहू कैसे कहूँ,
मुस्कान में दिखे बेटी की झलक उसे बहू कैसे कहूँ,
कभी ज़ोर की साँस ले लूँ तो वो उठ खड़ी होती है,
जो थकती नहीं है माँ माँ कहते उसे बहू कैसे कहूँ!!!
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
sabaka khoob khyaal rakhatee hai,
sabako khoob pyaar detee hai,
vo koee paree nahin,
balki bahu hai meree,
jo har dukh-dard door kar detee hai.
सबका खूब ख्याल रखती है,
सबको खूब प्यार देती है,
वो कोई परी नहीं, बल्कि बहु है मेरी,
जो हर दुख-दर्द दूर कर देती है।
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
bhool kabhee ho jae,
to pyaar se bada samajhaatee hai,
meree bahoo kabhee doktar,
to kabhee kaunsalar ban jaatee hai.
भूल कभी हो जाए,
तो प्यार से बड़ा समझाती है,
मेरी बहू कभी डॉक्टर,
तो कभी काउंसलर बन जाती है।
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───
hamaaree seva mein hamesha apana saara dard bhoolakar lag jaana,
teree jaisee pyaaree bahoo ko ham paakar,
nahin chaahate hain koee bhee dhan sampatti paana.
हमारी सेवा में हमेशा अपना सारा दर्द भूलकर लग जाना,
तेरी जैसी प्यारी बहू को हम पाकर,
नहीं चाहते हैं कोई भी धन संपत्ति पाना।
───✱*.。:。✱*.:。✧*.。✰*.:。✧*.。:。*.。✱ ───