tumhari muskurahat shayari

Tumhari muskurahat shayari | Muskurana shayari

Tumhari muskurahat पर आज हम कुछ बेहद ही शानदार और बिलकुल नई मुस्कराहट शायरी लेकर आये है। जिसे अगर आप अपने किसी चाहने वाले को अगर भेज देंगे तो वो आप पर फ़िदा हो जायगा, और आपके स्टेटस का दीवाना हो जायगा। दोस्तों वैसे तो इंटरनेट की दुनिया में बहुत सी शायरियां मौजूद हे लेकिन  राहत इन्दोरी शायरी आप के लिए वो शायरियां लेकर आता हे जो सबसे अलग होती है ।

दोस्तों ज़िन्दगी में हमारे पास सुख और दुःख दोनों आते है लेकिन इन सुख दुःख में जो मुस्कुरा कर ज़िन्दगी गुज़रता है उसे ही असल ज़िन्दगी का सुख मिलता है।

Tumhari Muskurahat Shayari

परेशां सी है मेरी ज़िन्दगी,
सुकून सी तुम्हारी मुस्कराहट ।।


मौसम थोड़ा हसीं है, तेरी यादों की तरह,
आज फिर खुद पर प्यार आया है,
तेरी मुस्कराहट को देख कर,
फिर से सुकून पाया है ।


अच्छा लगता है मुझे तेरी आँखों में यूँ ही देखते जाना ।
और मेरे देखने पर तेरा यूँ ही मुस्कुरा कर शरमाना ।।


तुम्हारी एक मुस्कराहट के लिए में
अपनी बड़ी से बड़ी चाहत को कुर्बान कर सकता हूँ ।।


tumhari muskurahat shayari

कुछ ना था मेरे पास खोने को,
तुम मिले हो तो डरने लगा हूँ…!!


उसकी मुस्कराहट में मेरी जान बस्ती है,
कितनी प्यारी लगती है जब वो हंसती है ।।


कोई पूछ रहा है हमसे ज़िन्दगी की कीमत,
मुझे याद आ रहा है तेरा हल्का सा मुस्कुराना ।।


जब मुस्कुरा कर वो पलके झुका लेती थी,
साँसे चलती थी मेरी पर जान निकल जाती थी ।।


एक शाम तुझसे रूबरू हो जाये तो क्या होगा,
तेरी नज़रे मुझसे टकराये तो क्या होगा,
सुना है तेरी हसी क़ातिल है,
तू मुझे देख कर मुस्कुराये तो क्या होगा ।।


मुस्कुराई में,
पर खयालो में वो है रहा था।


Muskurana Shayari

उन्ही से हमको मुस्कुरा कर मिलना पड़ता है,
हमारे क़त्ल की साजिश में जिनके दिन गुज़रते है ।।


मुस्कुराना कौन सा मुश्किल काम है,
बस तुम्हे याद ही तो करना है ।।


मुस्कुराया हर बार हमेशा छिपाये है गम,
तुम्हे वक़्त बताएगा की कौन है हम ।।


हर एक शिकायत का गाला घोंट दिया हमने,
जब उसने मुस्कुरा कर अलविदा कहा ।।


हम भूल रहे है,
हमें मुस्कुराना भी तो है ।।


मुस्कुराना आदत है हमारी,
वरना ज़िन्दगी तो हमसे भी नाराज़ है ।।


बदल दिए है हमने नाराज़ होने के तरीके,
अब रूठने के बजाये हल्का सा मुस्कुरा देते है ।।


यूँ तो गम की वजह बहुत है जिन्दागी में,
मगर बेवजह मुस्कुराने का मज़ा ही कुछ और है ।।


एक बात बताये आपको मुस्कुराओगे क्या,
लव करते है आपसे पास आओगे क्या ।।


तुम्हारी मुस्कराहट शायरी

वो खुशनसीब है जिनके मर्ज़ जानती है दुनिया,
हम मुस्कुराने वालो की तबियत कोई पूछता कहा है ।।


कुछ देना ही है तो अपना surname ही देदो,
ये गिफ्ट विफ्त में क्या रखा है ।।


उदासी पकड़ी ही नहीं जाती,
इतना संभल कर मुस्कुराते है हम ।।


तुम खुश होती हो तो मुस्कुराती हो,
में खुश होता हूँ तेरे मुस्कुराने पर ।।


लाख गम सही, हमें खुलकर मुस्कुराना आता है,
हम लड़के है जनाब, हमें दर्द छिपाना आता है ।।


छोटी सी पसंद है हमारी, एक तुम, और
दूसरा मुस्कुराना तुम्हारा ।।


मुस्कुराहट झूठी भी होती है,
इंसान को देखना नहीं समझना सीखो ।।


वो सामने बैठ कर जब मुस्कुरा देते है,
तो तबियत में खुदकी सुधर नज़र आता है ।।


चेहरे देख कर दिल लगाया ही नहीं कभी,
हाँ मुस्कुराहटो पर तेरी कई बार जान लुटाई है ।।


लोग पूछते है मुझसे मेरी मुस्कराहट का सबब,
मेरी नज़ारे हर दफ़ा, तुम ही पर आकर ठहर जाती है ।।


आँखों को आंसुओ में भिगोना पड़ता है,
कभी कभी मुस्कुराने से पहले रोना पड़ता है ।।


बेवजह इतना मुस्कुराया ना करिये,
गम सिरहाने ही खड़ा होगा,
गर ख़ुशी की घड़ी है लम्बी,
तो गम का पहरा भी उससे बड़ा होगा ।।


कोई भी ख़ुशी चेहरे पर चमक नहीं लाती है,
और एक छोटी से चोंट भी रुला के जाती है ।।


तू जिन पलों में मुस्कुराता है उन पलों को मुझे कैद कर के,
ना जाने क्यों सुकून सा मिल जाता है ।।


Pages: 1 2