Zulm ke khilaf shayari

Zulm shayari | Zulm Ke Khilaf Urdu Shayari Hindi Me |

In this post we are going to give you some best Zulm shayari with English and Hindi font along with Zulm shayari HD wallpaper for download with zulm shayari images you can easily say your dil ki baat in your social media status. in the previous post we are uploaded some Interesting facts about love you can also check that post.

 

( 1 )

तुम अपने ज़ुल्म की इन्तेहा कर दो,
न जाने…
फिर कोई हम सा बेजुबां मिले ना मिले ।

Tum Apne Zulm Ki Intehan Kar Do,
Na Jaane…
Fir Koi Hum Sa Bejubaan Mile Na Mile.

( 2 )

जब कभी भी ज़मीं पर
ज़ुल्म हद से ज़्यादा रुला देता हे,
खुदा बहुत ज़्यादा तो नहीं करता,
बस थोड़ी से ज़मीन हिला देता है ।।

jab kabhi bhi zamin par
zulm had se zyada rula deta hai,
khuda bahut zyada to nahi karta,
bas thodi se zamin hila deta hai.

( 3 )

Baat yah nahi ki log badal gaye hai,
mudda yeh hai ki wo mante bhi nahi.

( 4)

अदालते, तारीखे, और सुनवाई, सब दिखावा है,
ज़ुल्म के नंगे जिस्म पर, कानून का पहनावा है ।।

Adalte, tarikhe, aur sunvai, sab dikhava hai,
zulm ke nange jism par, kanun ka pahnava hai.

( 5 )

तुम लोगो ने बहुत ज़ुल्म ढाया मुझको अकेला समझकर,
देख लेना में अपने साथ खुदा लेकर आऊंगा ।।

Tum logo ne bahut zulm dhaya mujhko akela samajhkar,
dekh lena main apne sath khuda lekar aaunga.

( 6 )

जो ज़ुल्म के ज़रिये इज़्ज़त चाहता है,
अल्लाह उसे इंसाफ के ज़रिये ज़लील करता है ।।

jo zulm ke zariye ijjat chahta hai,
allah use insaf ke zariye jalil karta hai.

( 7 )

की तेरे प्यार के खातिर तेरा हर ज़ुल्म सहेंगे,
मगर याद रखना एक बात, जो तोडा इस दिल को फिर,
तो हम ज़ुल्म करेंगे, और उससे कोई बच नहीं सकेगा ।।

ki tere pyar ke khatir tera har zulm sahenge,
magar yaad rakhna ek baat, jo toda is dil ko fir,
to ham zulm karenge aur usse koi bach nahi sakega.

( 8 )

ऐसी सजा शायद किसी को मिली होगी,
हाथो में सजी मेहँदी भी रो रही होगी,
ना लफ्ज़ ज़ुबा से कुछ बोल पा रहे थे,
जब वो हम पर ज़ुल्म ढा रहे थे ।।

esi saza shayad kisi ko mili hogi,
hatho me saji mehndi bhi ro rahi hogi,
na lafz zuba se kuch bol paa rahe honge,
jab vo ham par zulm dha rhe the.

( 9 )

ज़ालिम थे लोग मुझे बुज़दिल समझ बैठे,
मेरी ख़ामोशी को मेरी कमज़ोरी समझ बैठे,
किया अब जब मेरे वार तो अपनी जान से हाथ धो बैठे ।।

Zalim the log mujhe budzil samajh bethe,
meri khamoshi ko meri kamzori samajh bethe,
kiya ab jab mene vaar, to apni jaan se hath dho behte.

( 10 )

यह दुनिया बड़ी ज़ुल्म और सितम से भरी है,
तुम मेरे दिल में रहना, यहाँ सब सुरक्षित है ।।

yah duniya badi zulm aur sitam se bhari hai,
tum mere dil me rehna, yahan sab surakhshit hai.

( 11 )

बदनामी के डर से तू परेशां ना हो यार,
मैं तेरे ज़ुल्म लिखूंगा पर तेरा नाम नहीं लिखूंगा ।।

Badnami de dar se tu pareshan naa ho yaar,
main tere zulm likhunga, par tera naam nahi likhunga.